Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

बेटियां परिवार और समाज की आधारशिला – राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि समाज और देश तभी समृद्ध और सशक्त होगा जब बेटियां स्वस्थ, शिक्षित और स्वावलंबी होगी। शिक्षित महिला माँ, बहन, दादी और पत्नी सभी भूमिकाओं का बेहतर तरीक़े से निर्वहन करती है। उन्होने कहा कि महिलाएँ आज व्यापार, शिक्षा, राजनीति, खेल, कला, प्रतिरक्षा सभी क्षेत्रों में कामयाबी का परचम लहरा रही है। सेना में फाईटर प्लेन उड़ा रही हैं। चंद्रयान जैसी परियोजनाओं में सशक्त भूमिका निभा रही हैं।

बालिकाओं को सशक्त देखकर अभिभूत हूँ

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि कन्या शिक्षा परिसर की बालिकाओं के सर्वांगीण विकास की झलक को देखकर, मैं भावविभोर हूँ। इसके लिए मैं सूर्या फ़ाउंडेशन और स्कूल प्रबंधन को हृदय की गहराइयों से बधाई और शुभकामनाएं देता हूँ। उन्होंने बालिकाओं द्वारा प्रस्तुत आत्मरक्षा शैली कराटे और मार्शल आर्ट, देशभक्ति और लोक कला पर आधारित सांस्कृतिक नृत्य कार्यक्रम और योगा प्रदर्शन प्रस्तुतियों की सराहना की।

पंचायत से गणतंत्र के सर्वोच्च पद पर महिलाएँ

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि पंचायत से लेकर गणतंत्र के सर्वोच्च पद पर महिलाएँ विराजमान हैं। वर्तमान में मध्यप्रदेश की मुख्य सचिव भी महिला अधिकारी है। उन्होंने सभी बेटियों से कहा कि सफल महिलाओं से प्रेरणा लेकर भावी जीवन की दिशा तय करें। श्री पटेल ने कहा कि शिक्षा बदलाव का सशक्त साधन है। बेटियां अपनी शिक्षा की ताक़त से अपने समुदाय और समाज के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है। अपने समुदाय और परिवार की महिलाओं और बेटियों को स्वयं के उदाहरण से शिक्षा और सशक्तिकरण का महत्व बताना चाहिए। श्री पटेल ने बालिकाओं से अपील की कि वे पिछड़े, वंचित क्षेत्रों के उत्थान, आत्म-निर्भरता, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और स्वावलंबन के कार्यक्रमों और प्रयासों में ज़रूर सहभागिता करें।

नागरिक देशहित में सोचेंगे तभी सशक्त होगा देश

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि हम इतिहास के उस दौर में हैं जब देश उन्नति की छलांग लगाने जा रहा है। देश तभी सशक्त होगा जब हर नागरिक देशहित में सोचेगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्र के प्रति सजग नागरिकों की पौध तैयार करने का यही सही समय है। युवाओं को शिक्षा और कौशल तक ही सीमित नहीं रखते हुए, उन्हें देश सेवा और कर्तव्यों को सर्वोपरि रखने के लिए प्रेरित करें। शिक्षकों से कहा कि वर्तमान और भावी पीढ़ी में विचारशीलता और कर्तव्य के पालन के बीज बोने के लिए स्वयं उदाहरण प्रस्तुत करें। उनका रोल मॉडल बनें।

राज्यपाल श्री पटेल का पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत और स्मृति चिन्ह भेंट कर अभिनंदन किया गया। श्री पटेल ने बेस्ट स्टूडेंट के लिए कुमारी आयुषी, बेस्ट हाउस के लिए झलकारी हाउस, बेस्ट टीचिंग स्टाफ के लिए श्वेता त्रिपाठी और बेस्ट एडमिन स्टॉफ के लिए शंकर लाल को पुरस्कार प्रदान किए। उन्होंने राज्य स्तरीय ताईक्वांडो प्रतियोगिता में रजत पदक विजेता नीतू बरेला, कांस्य पदक विजेता दीपिका बरेला और आशा वर्मा को भी सम्मानित किया। श्री पटेल ने स्कूल प्रबंधन और छात्राओं के साथ समूह चित्र खिंचवाया और कन्या शिक्षा परिसर के वी.आई.पी. विजिटिंग नोट पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने परिसर में आम का पौधा भी लगाया।

राज्यपाल श्री पटेल को बालिकाओं ने शौर्य के प्रतीक धनुष-बाण भेंट की। वार्षिक उत्सव में कन्या शिक्षा परिसर में अध्ययनरत कक्षा 11वीं और कक्षा 12वीं की छात्राओं ने परिसर की शिक्षा-दीक्षा और प्रबंधन के बारे में अपने अनुभव बताए। कार्यक्रम में स्वागत उद्बोधन के रूप में प्राचार्य श्रीमती प्रमीला राही पाण्डे ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। आभार प्रबंधक कन्या शिक्षा परिसर श्री सत्येंद्र शर्मा ने दिया।

वार्षिक उत्सव कार्यक्रम में पिछड़ा वर्ग आयोग सदस्य श्री सीताराम यादव, आयुक्त भोपाल संभाग डॉ. पवन कुमार शर्मा, आईजी श्री अभय सिंह, प्रभारी कलेक्टर श्री आशीष तिवारी, एस.पी. श्री मयंक अवस्थी, वाईस चेयरमेन सूर्या फाउंडेशन श्री हेमन्त शर्मा और श्री मुकेश त्रिपाठी सहित छात्राओं के अभिभावक गण उपस्थित थे।

Leave a Comment

  • UPSE Coaching
What does "money" mean to you?
  • Add your answer