Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

धर्म क्या है? धर्म का अर्थ एवं परिभाषा, महत्व

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

प्रस्तावना :- मानव शास्त्रियों और समाजशास्त्रियों ने धर्म की व्याख्या सामाजिक संरचना के एक आवश्यक और महत्वपूर्ण तत्व के रूप में की है, जो मानव व्यवहार को निर्धारित करने के रूप में धर्म के कार्य का वर्णन करता है। अलौकिक शक्ति और उसके समावेश के प्रकार के बारे में मनुष्य की धारणाओं को व्यक्त करने की विधि का नाम धर्म है। सामाजिक जीवन में धर्म की प्रमुख भूमिका है और उनके बौद्धिक, भावनात्मक और व्यावहारिक जीवन की सभी गतिविधियों को दृढ़ता से प्रभावित करने में इसका बहुत बड़ा योगदान है।

धार्मिक व्यवस्था में विश्वास, परंपरा, रीति-रिवाज और पवित्रता के सामाजिक मूल्य अंतर्निहित हैं। धार्मिक आस्था वाले लोग अलौकिक और आध्यात्मिक शक्तियों में विश्वास करते हैं। व्यक्ति के समाजीकरण में धर्म की प्रमुख भूमिका होती है। सामाजिक व्यवस्था के मुख्य आधार के रूप में धर्म एक ओर मनुष्य के व्यक्तित्व को प्रभावित करता है तो दूसरी ओर उसके सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक जीवन को भी प्रभावित करता है।

राधाकृष्णन के अनुसार जिन सिद्धांतों के अनुसार हम अपना दैनिक जीवन जीते हैं, जिनके माध्यम से सामाजिक संबंध स्थापित होते हैं, वही धर्म है। यह जीवन का सत्य है। यह एक ऐसी शक्ति है जो हमारी प्रवृत्तियों को निर्धारित करती है। प्रत्येक युग और समाज में हमें धर्म एक मूलभूत संस्था के रूप में देखने को मिलता है।

 

धर्म की अवधारणा :-

धर्म मानव जीवन का एक अनिवार्य तत्व है। जीवन को व्यवस्थित करने में धर्म की विशेषताओं, आदर्शों और कार्यों को देखते हुए यह स्वीकार करना होगा कि धर्म एक अमूर्त तत्व है जो मनुष्य की मूलभूत आवश्यकताओं से अधिक महत्वपूर्ण है। इसी कारण धर्म बहुत काल से अध्ययन और चिंतन का विषय रहा है।

 

हालाँकि धर्म सभी ज्ञात समाजों में मौजूद है, धार्मिक विश्वास और प्रथाएँ एक संस्कृति से दूसरी संस्कृति में भिन्न होती हैं। धर्म से जुड़े कई अनुष्ठान हैं। प्रार्थना करना, गुणगान करना, भजन गाना, किसी विशेष प्रकार का भोजन करना या न खाना, उपवास करना आदि कर्मकांड के कार्य हैं। समाजशास्त्र में धर्म का अध्ययन धार्मिक या आस्तिक अध्ययन से अलग है।

 

धर्म का अर्थ :- धर्म का अर्थ है कर्तव्य, संस्कार और गुण । वस्तुतः ‘धर्म’ शब्द का अर्थ है ‘ध्रु’ धारणे अर्थात धृ धातु जिसका अर्थ है धारण करना। धर्म का अर्थ है किसी वस्तु को धारण करना या उसके अस्तित्व को सिद्ध करना। किसी वस्तु की आवश्यक शक्ति को बनाए रखना धर्म का एक आवश्यक गुण है। विश्व की सामाजिक स्थिति के निर्धारण में तथा सामाजिक स्तरीकरण की व्यवस्था के निर्माण में तथा सामाजिक नियंत्रण के एक प्रमुख अभिकरण के रूप में धर्म का सर्वोच्च स्थान है।

व्यापक अर्थ में धर्म का अर्थ हृदय की शुद्धि, अच्छे चरित्र और नैतिकता प्राप्त करना, मन में आध्यात्मिक मूल्यों को स्थापित करना आदि है। धर्म को इस मूलभूत शक्ति के रूप में जाना जा सकता है जो भौतिक और आध्यात्मिक प्रणाली का आधार है और जो उस प्रणाली को बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

 

धर्म की परिभाषा :-विभिन्न विचारकों ने धर्म की भिन्न-भिन्न परिभाषाएँ प्रस्तुत की हैं। कुछ प्रमुख परिभाषाएँ इस प्रकार हैं:-

 

“धर्म आध्यात्मिक शक्ति में विश्वास है।”

-एडवर्ड टायलर

 

“धर्म क्रिया की एक विधि है और साथ ही विश्वासों की एक व्यवस्था है। धर्म एक समाज शास्त्रीय घटना के साथ-साथ एक व्यक्तिगत अनुभव भी है।”

-मैलिनोवस्की

 

“धर्म किसी अलौकिक और अतीन्द्रिय शक्ति के भय का एक मानवीय प्रत्युत्तर है। यह व्यवहार की अभिव्यक्ति या परिस्थितियों से किए गए अनुकूलन का वह रूप है जो एक अलौकिक शक्ति में धारणा से प्रभावित होता है।”

-मजूमदार और मदन

 

“धर्म कम या अधिक रूप में उच्च अलौकिक व्यवस्था या प्राणियों, शक्तियों, स्थानों और अन्य तत्वों के संबंध में विश्वासों और व्यवहारों की एक स्थिर प्रणाली है।”

-जॉनसन

 

“धर्म अलौकिक शक्ति में विश्वास पर आधारित है जिसमें आत्मवाद और मानववाद दोनों सम्मिलित हैं।”

-हॉबल

 

“जिन सिद्धांतों के अनुसार हम अपना दैनिक व्यतीत करते हैं, जिनके द्वारा हमारे सामाजिक सम्बन्धों की स्थापित होती हैं, वही धर्म है। यह जीवन का सत्य है और हमारी प्रकृति को निर्धारित करने वाली शक्ति है।”

-डॉ० राधाकृष्णन्

 

धर्म की विशेषताएं :-

  • धर्म प्राकृतिक शक्तियों से संबंधित है।
  • धर्म में पवित्रता का तत्व पाया जाता है।
  • प्रत्येक धर्म की एक सैद्धांतिक व्यवस्था होती है।
  • धर्म के माध्यम से मनुष्य और दैवीय शक्तियों के बीच संबंध स्थापित होते हैं।
  • धर्म की प्राकृतिक शक्तियों का स्वरूप दैवीय होता है अर्थात इस प्रकार की शक्ति अलौकिक होती है।
  • प्रत्येक धर्म में, धार्मिक व्यवहार के लिए एक निश्चित प्रतिमान होता है जो दैवीय इच्छाओं को प्रकट करता है।
  • धर्म में सफलता और असफलता दोनों तत्व पाए जाते हैं। इन्हीं तत्वों के आधार पर व्यक्ति को धार्मिक पुरस्कार तथा धार्मिक दंड की प्राप्ति होती है।

 

धर्म का महत्व :-

  • धर्म मानव जीवन का एक अनिवार्य तत्व है, यह मानव जीवन के कई पहलुओं और आयामों को प्रभावित करता है साथ ही मानव व्यवहार को नियंत्रित करता है। इसलिए, धर्म सामाजिक नियंत्रण का एक महत्वपूर्ण साधन है।
  • धर्म की संस्थाएं और उनके संगठन मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और उनसे जुड़े धार्मिक व्यक्ति विभिन्न स्तरों पर अपने सदस्यों के व्यवहार को नियंत्रित करते हैं।
  • संस्कारों, समारोहों, प्रार्थनाओं, पुरोहित शक्ति, धार्मिक प्रवचनों, उपदेशों के माध्यम से सदस्यों के व्यवहार पर भी उनका संस्थागत नियंत्रण होता है।
  • धर्म व्यक्ति को कर्तव्य पालन की प्रेरणा देता है। सभी व्यक्ति अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए सामाजिक संगठन और एकता को बनाए रखने में अपना योगदान देते हैं।
  • धर्म एक ऐसा तरीका है जिसमें व्यक्तिगत स्वार्थ के स्थान पर सामूहिक स्वार्थ को महत्व दिया जाता है, जिससे सामाजिक एकता को बढ़ावा मिलता है। वे एक-दूसरे का सहयोग करते हैं, उनमें समान भावनाएँ, विश्वास और व्यवहार होते हैं।
  • हर धर्म में पाप और पुण्य की धारणा किसी न किसी रूप में होती है। पाप और पुण्य सही और गलत, अच्छाई और बुराई और अच्छे कर्म और बुराई की धारणाएं बचपन से ही व्यवहार का हिस्सा बन जाती हैं जो जीवन भर व्यक्ति का मार्गदर्शन करती रहती हैं।
  • धर्म मनुष्य में पाप-पुण्य की भावना पैदा करता है और लोगों को प्रेरित करता है कि धर्म के अनुसार आचरण करने से वह पुण्यवान होगा और धर्म के विरुद्ध आचरण करने से पाप करेगा। इसलिए, व्यक्ति धार्मिक प्रथाओं का उल्लंघन नहीं करते हैं। अतः यह कहा जा सकता है कि समाजीकरण भी धर्म के माध्यम से होता है।

 

धर्म और विज्ञान :-

धर्म और विज्ञान का भी मानव जीवन से गहरा संबंध है। दोनों संस्कृति के अभिन्न अंग हैं और दोनों का उपयोग मानवीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए किया जाता है। धर्म और विज्ञान किसी अस्तित्व को देखने, समझने और परखने की शैलियाँ हैं। विज्ञान स्थितियों की समीक्षा करता है जबकि धर्म जीने की कला सिखाता है।

धर्म नाशवान् और श्रणिक वस्तुओं के प्रति उदासीन रहता है, पर विज्ञान उन वस्तुओं का अवलोकन, परीक्षण और सामान्यीकरण करता है। जहाँ धर्म ईश्वर और अलौकिक शक्ति की सहायता से मानवीय समस्याओं का समाधान खोजता है, वहीं विज्ञान वास्तविकता के आधार पर क्रिया और कारण की सहायता से समस्याओं का तार्किक समाधान प्रस्तुत करता है, जबकि धर्म की अतार्किक प्रकृति समाज और व्यक्ति दोनों के लिए महत्वपूर्ण है।

धर्म और विज्ञान परस्पर विरोधी होते हुए भी परस्पर जुड़े हुए हैं। विज्ञान जीवन में मुक्त चिंतन, परिष्कृत विचार पैदा करता है और धर्म जीवन में पवित्रता, प्रेम और त्याग का भाव पैदा करता है।

 

संक्षिप्त विवरण :- धर्म भय, श्रद्धा, भक्ति और पवित्रता की धारणा पर आधारित किसी प्रकार की अतिमानवीय या अलौकिक शक्ति में विश्वास है और जिसे प्रार्थना, पूजा या पूजा आदि के रूप में व्यक्त किया जाता है। यह व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन का आधार है, जीवन का शाश्वत सत्य है, जो श्रेष्ठ है।

धर्म के दो पक्ष हैं – आन्तरिक पक्ष और बाह्य पक्ष। पहले पक्ष में विचारों का समूह, संवेग और भावनाओं, धार्मिक प्रथाओं और ईश्वर से संबंधित मानवीय कार्यों के बारे में विश्वासों आदि शामिल है, जबकि दूसरे पक्ष में प्रार्थना, धार्मिक त्योहारों, स्मृतियों आदि का अभ्यास शामिल है। इनके माध्यम से धार्मिक विश्वासों की अभिव्यक्ति होती है। धार्मिक संस्थान जैसे चर्च, मंदिर, मस्जिद आदि भी इसमें आते हैं।

Leave a Comment

  • UPSE Coaching
What does "money" mean to you?
  • Add your answer